हमारी पहुंच

Akshaya Patra ने जयपुर में एक रसोई के साथ राजस्थान में फ़रवरी 2004 में अपने प्रचालनों की स्थापना की थी। क्षेत्र में मध्याह्न-भोजन का महत्व स्पष्ट होने एवं भूभागीय स्थितियों का आकलन कर लेने के बाद, अप्रैल 2005 में बरान ज़िले में एक और रसोई शुरु की गई। इसके बाद जल्द ही जून 2006 में नाथद्वारा में तीसरी रसोई स्थापित कर दी गई।

जयपुर और नाथद्वारा, दोनों ही रसोईयाँ आईएसओ 22000:2005 प्रमाणित हैं और केन्द्रीयकृत मॉडल का पालन करती हैं वहीं बरान रसोई विकेन्द्रीकृत है और प्रमुखः महिला स्वयं-सहायता समूहों द्वारा संचालित होती है जिससे सैकड़ों महिलाओं के लिए रोजगार का सृजन हुआ है।

राजस्थान के तीनों स्थानों पर Akshaya Patra द्वारा भोजन प्राप्त करने वाले लाभार्थियों की संख्या को नीचे तालिका में दर्शाया गया है। 

राज्य / स्थान बच्चों की संख्या विद्यालयों की संख्या रसोई का प्रकार
राजस्थान 135,910 1,830  
जयपुर 92,763 1,081 केन्द्रीयकृत रसोई
नाथद्वारा 25,274 435 केन्द्रीयकृत रसोई
बरान 11,456 166 विकेन्द्रीकृत रसोई
जोधपुर 6417 148 केन्द्रीयकृत रसोई

Share this post

Note : "This site is best viewed in IE 9 and above, Firefox and Chrome"

`